“मौलवी ने मुझे मेरे बालों से पकड़ा और धमकी दी कि अगर मैं इस्लाम कबूल नहीं करती तो मुझे जान से मार देगा:” पाकिस्तानी सिख लड़की

जिस सिख लड़की को अगवा किया गया था, जिसे जबरन इस्लाम में परिवर्तित किया गया और पाकिस्तान के ननकाना साहिब में शादी करा दी गई थी, उस लड़की को भारी अंतर्राष्ट्रीय हंगामे के बाद, विशेषकर भारत के सिखों और मनजिंदर सिरसा जैसे अकाली दल के नेताओं के विरोध के बाद, लाहौर में परिजनों के पास छोड़ दिया गया है।

अपनी रिहाई के बाद, लड़की ने एक दिल दहला देने वाली कहानी सुनाई कि कैसे उसका अपहरण किया गया, उसे पीटा गया और इस्लाम में परिवर्तित होने और उसके मुस्लिम अपहरणकर्ता से शादी करने के लिए कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर किया गया।

ऊपर वीडियो में लड़की यह कहती है –

  • उन्होंने मुझे एक वाहन में बैठने के लिए मजबूर किया और मुझे किसी इमरान के घर ले गए।
  • जब मैंने मदद के लिए चीखने की कोशिश की, तो उन्होंने मुझे मारने की धमकी दी।
  • इमरान के घर पर, मुझे पीटा गया। उन्होंने मुझे धर्म परिवर्तन के लिए और निकाह के लिए कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर किया।
  • जब मैंने इनकार कर दिया, तो उन सब, जिसमें एक वकील और एक मौलवी भी मौजूद था, ने मुझे पीटा। मना करने पर उन्होंने मेरे भाइयों को मारने की धमकी भी दी।
  • मौलवी (मुस्लिम पादरी) ने मेरे बालों को पीछे से पकड़ लिया, मुझे पीटा और धमकी दी कि अगर मैं इस्लाम नहीं अपनाती तो वे मुझे मार देंगे।
  • (टूटते हुए) … उन्होंने मुझे अपनी मांगें मानने के लिए मजबूर किया।
  • मैं उनसे अपने घर वापस भेजने की विनती करती रही, लेकिन वे मुझे पीटते रहे।

लड़की सिख ग्रन्थि की बेटी है। हिन्दू, सिख और ईसाई लड़कियों का नियमित रूप से अपहरण करने वाले पाकिस्तानी इस्लामी कट्टरपंथियों के चंगुल से कम से कम एक लड़की को भागते हुए देखकर खुशी होती है – यह अनुमान लगाया जाता है कि ~ 1000 अल्पसंख्यक लड़कियों का अपहरण हर साल पाकिस्तान में किया जाता है।

बांग्लादेश और भारत में भी इस तरह के मामले व्याप्त हैं, लेकिन पाकिस्तान में इस धर्मांतरण माफिया की गहरी जड़ें हैं, जिनमें मौलवी, पीर (सूफी संत) जैसे भारचुंडी शरीफ दरगाह, वकील, पुलिस और राजनेता जो सभी प्रमुख पार्टियों जैसे पीपीपी, पीटीआई, पीएमएल आदि के समर्थन के साथ, खुले आम इस काम को अंजाम देते हैं।

संभवतः यह सिख लड़की अपने अपहरणकर्ता के चंगुल से बचने में इसलिए कामयाब रही – लाहौर में गवर्नर के घर में लड़के और लड़की के परिवारों के बीच आपसी समझौता होने के बाद उसे उसके माता-पिता को सौंप दिया गया – क्योंकि पाकिस्तानी सरकार को डर था सिख समुदाय उनसे ऐसे समय में आक्रोशित हो जायेगा, जब पाकिस्तान करतारपुर गलियारे का उपयोग करके खालिस्तान कार्ड खेलने की कोशिश कर रहा है।

लेकिन इस घटना से यह पता चलता है कि अगर ऐसे मामले में प्रभावशाली लोग अटलता के साथ बोलते हैं और उस बात का पीछा करते हैं, तो पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे इस्लामी देशों में अकल्पनीय उत्पीड़न का सामना करने वाले धार्मिक अल्पसंख्यकों  को बचाया जा सकता है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) के अध्यक्ष और शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर एस सिरसा को श्रेय देना चाहिए, जिन्होंने इस मामले को उजागर किया और लड़की को उसके परिवार में वापस आने के बाद भी मामले को खत्म नहीं होने दिया।

(यह लेख एक अँग्रेज़ी लेख का हिंदी अनुवाद है )


क्या आप को यह लेख उपयोगी लगा? हम एक गैर–लाभ (non-profit) संस्था हैं। एक दान करें और हमारी पत्रकारिता के लिए अपना योगदान दें।