Hindi

शेरशाह सूरी से इतना प्रेम क्यों?

हिंदी पट्टी के साहित्यकारों में शेरशाह सूरी को लेकर प्रेम की एक ऐसी धारा बहती है, जो हतप्रभ करने वाली है। वह किसी से भी प्रेम कर सकते हैं, इससे…


हिंदी पट्टी के इस्लाम परस्त फेमिनिज्म में खोता हिन्दू स्त्रियों का इतिहास- सरमा पाणी संवाद (ऋग्वेद)

हिंदी साहित्य में पिछले कई समय से कामकाजी स्त्री और घरेलू स्त्री को लेकर विवाद छिड़ा हुआ है। वैसे तो यह विवाद काफी पुराना और लंबा है, क्योंकि वाम पोषित…


समय हिन्दू धर्म के प्रतीकों के गर्वीले प्रदर्शन का हैं

कल मणिपुर की मीराबाई चानू द्वारा टोक्यो ओलंपिक्स में भारोत्तोलन में रजत पदक के जीतते ही भारत पदक तालिका में आ गया। पहली बार ऐसा हुआ था कि भारत पहले…


व्यास पूर्णिमा: भारतीय विमर्श की उच्च पृष्ठभूमि

आषाढ़ माह की पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा एवं गुरु पूर्णिमा भी कहा जाता है। महर्षि व्यास, जिनका जन्म महर्षि पराशर और निषाद कन्या सत्यवती के समागम के कारण हुआ था,…


चंद्रशेखर आजाद: स्वतंत्रता जिनकी रग रग में थी!

23 जुलाई, याद करने का दिन है भारत के ऐसे लाल को, जिसने अंतिम समय तक स्वतंत्र रहना चुना। जो चेतना से स्वतंत्र थे, जिन्होंने गुलामी को माना तक नहीं!…


दानिश सिद्दीकी की मृत्यु के बहाने प्रश्न?

भारत के पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या के मामले में नया मोड़ तब आया जब तालिबान के प्रवक्ता ने स्वयं ही यह स्वीकार किया कि उन्हें भारतीय होने के नाते…


16 अगस्त ही “खेला होबे” के लिए क्यों?

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा को पूरे देश से भगाने के लिए  16 अगस्त को “खेला होबे” दिवस मनाने की घोषणा की है।  भाजपा ने भी कांग्रेस मुक्त…


भारतीय वाम फेमिनिज्म: इस्लामी कट्टरपंथ के हाथों में एक सहायक उपकरण

खुद को कथित रूप से फेमिनिस्ट कहने वाली भारतीय वाम औरतें कट्टर इस्लाम की समर्थक किस प्रकार होती हैं, वह उनकी रचनाएं पढ़कर पता चलता है कि कैसे वह लड़कियों…


हिंदी पट्टी का अंत:वस्त्र और कट्टर इस्लामी जाल में फंसाता फेमिनिज्म

हिंदी पट्टी की फेमिनिस्ट का दिमाग इन दिनों केवल अंत: वस्त्रों पर आकर टिक गया है। और अब यह समस्या धीरे धीरे बढ़ती जा रही है। इन अटेंशन सीकर फेमिनिस्ट…


धर्म और राष्ट्र के नाम जीवन का बलिदान करने वाले मंगल पाण्डेय

मंगल पाण्डेय का नाम आज हर कोई आदर से लेता है, उन्होंने देश के नाम अपना जीवन बलिदान कर दिया था। उनके दिल में क्रोध था। और उस क्रोध में…