Society & Culture

self realization versus Monotheism

आत्मबोध और एकेश्वरवाद – सारे रास्ते सामान नहीं हैं

अनन्य (exclusive) एकेश्वरवाद की सीमाएं अब्राहमिक परम्पराएं( इस्लाम, ईसाइयत आदि) एकेश्वरवादी होती हैं और केवल एक ईश्वर को मानती हैं। फिर भी उनका एकेश्वरवाद बहुत ही अनन्यवादी (exclusivist) होता है।…