Anti-Brahmanism

न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को एक स्वतंत्र समाज और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की परिभाषा पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता है

भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने सुदर्शन टीवी के सुरेश चव्हानके के “यूपीएससी जिहाद” वाले केस/वाद की सुनवाई करते हुए एक प्रश्नवाचक टिप्पणी की। रिपोर्टों के अनुसार, चंद्रचूड़ ने…


ज़ी-5 तमिल वेब श्रृंखला “गॉडमैन” – हिंदूफोबिया का एक और उदाहरण

ज़ी-5 तमिल पर एक नयी वेब श्रृंखला “गॉडमैन” 12 जून से प्रकाशित होने जा रही थी, जो ज़बरदस्त विरोध के बाद चैनल द्वारा स्थगित कर दी गयी है। इस शो…