BR Ambedkar

savarkar

‘तभी मेरी आत्मा को शांति मिलेगी’- वीर सावरकर

१४ अप्रैल, १९४२ को बाबासाहब अम्बेडकर जब अपना ५०वां जन्मदिवस  मना रहे थे तब उन्हें वीर सावरकर नें ये सन्देश भेजा- “व्यक्तित्व,विद्वता,संगठनचातुर्य व नेतृत्व करने की क्षमता के कारण आंबेडकर आज…




Dr. Ambedkar and his thoughts on reservations

In 2018 Maharashtra had been stirred up by the Maratha community for reservations in employment and education. It is the same matter which has been referred to the Constitutional bench…


डॉ. भीमराव अम्बेडकर के जीवन में एक ब्राह्मण शिक्षक की भूमिका

भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर जब युवा थे, वे शाम के वक्त मुंबई के चर्नी रोड गार्डन (अब सा.का. पाटिल गार्डन) जाकर पढाई किया करते थे | इसी बाग़ में तब…




Ambedkar jayanti अंबेडकर

बाबासाहब अंबेडकर – देश के युवाओं के प्रेरणाश्रोत

मैं एक बिंदु, परिपूर्ण सिन्धु, है ये मेरा हिन्दू समाज। मैं तो समष्टि के लिए व्यष्टि का, कर सकता बलिदान अभय। भारत के लोकप्रिय और सर्वमान्य पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल…